Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Teri khooshboo

 खुशबू फूलों की हर सिम्त फैल जाती है।


मुझे समेटु अपने बाजुँओं में लेती है ।


यह खुशबू किसी की याद दिलाती है ।


चुपके चुपके मुझसे कुछ कहती है।


 कभी खुशी देती है ।


कभी डराती है ।


एक अनजाना सा खेल साथ हमेशा मेरे खेलती है ।


कभी इठलाती है कभी इतराती है।


 कभी हाँसाती हैं कभी रुलाती हैं।


 न जाने फिर कहां गुम हो जाती है।


 तलाशतीं हूं मैं इसको हर सिम्त चारों ओर ।


मगर वह मुझे मिल नहीं पाती है।


 मेरा दिल मुझसे फिर सवाल करता है ।


मुझे फिर किसी का हम ख्याल करता है।


 कहता है क्यों ढूंढती हैं मुझको चारों और ।


 मैं नहीं जाता हूं तुझ को छोड़ कहीं और।


 धड़कन में तेरी सांसों की मानिंद बसता हूं ।


मैं तेरा ख्याल हूं तुझ में जिंदा रहता हूं।





sugandhit phoolon kee har simt phail jaatee hai. 

mujhe sametu apane baajunon mein letee hai. 

yah gussa kisee kee yaad dilaatee hai. 

chupake chupake mujhase kuchh kahatee hai. 

kabhee khushee hotee hai kabhee daraavatee hai. 

ek anajaana sa khel ke saath hamesha meree khelatee hai.

 kabhee ithalaatee hai kabhee itaraatee hai. 

kabhee haansaatee hain kabhee rulaatee hain. 

na jaane phir kahaan gum ho jaata hai. 

talaashateen hoon main isako har simt chaaron or. lekin vah mujhe nahin nahin paatee hai.

 mera dil mujhase phir savaal karata hai. 

mujhe phir se kisee ka ham rakhata hai. 

kahata hai kyon dhoondhatee hain mujhako chaaron or aur. 

main nahin jaata dhadakan mein teree saanson kee maanind basata hoon. 

main tera rakhana hoon tuz mein jinda rahata hoon.


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां