Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

कृषि प्रधान देश - भारत

Road pe kissan - krishy pradhan desh

 मेरे पिताजी हमेशा कहते हैं -

अन्न खा के जन्म लिये हैं 

अन्न खा के मर
जायेंगे ।


कितनी अजीब बात है न!  

इन सबके इतर 

हर दिन मरते हैं लोग 

गोली खाकर,जहर खाकर,ताने खाकर 

और भी तरीक़े हैं मरने के 

जबकि होना एक ही था । 


"कृषि प्रधान देश" अपने यहाँ 

ये बात उतनी ही झूठी है 

जितनी कि मेमने ने शेर को खा लिया । 


हमें बचाने हैं खेत,बचाने हैं किसान 

जबकि 

हमनें तोपें, मिसाइलें और विभिन्न प्रकार के हथियारों का संग्रह किया 

ये जानते हुए कि 

इन सबसे पेट नहीं भरता!  


कितनी बदनसीब होंगी हमारी आने वाली पीढ़ियाँ 

जिन्हें जीवन तो मिलेगा 

किंतु जीने के लिए अन्न नहीं । 


अगर आज नहीं लड़ें 

तो हमारी नस्लें भूखे मर जायेंगी, 

जीवन भर हल चलाने वालों का कोई हल नहीं निकलेगा


और जब विश्व का नया इतिहास लिखा जायेगा 

हम खेत, किसान और फसलें नहीं 

युद्ध, उन्माद और इन सबसे उपजी मानव सभ्यता की सबसे बड़ी त्रासदी लिख रहे होंगे। 


                                       Written by आदित्य रहबर

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां