Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

बनूं मैं लहू

 

बनूं मैं लहू

जन्म के अधिकार से,
आत्मा की पुकार से,
बनूं मैं लहू, बनूं मैं लहू।

पिता के दुलार से,
मां की पिचकार से,
बनूं मैं लहू, बनूं मैं लहू।

दुनिया के भीड़ से,
अपने मन के चीड़ से,
बनूं मैं लहू, बनूं मैं लहू।

आलोचकों की ज़ुबान से,
अपने हौसलों की उड़ान से,
बनूं मैं लहू, बनूं मैं लहू।।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां