Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

ज़िम्मेदारी - एक बार जरुर पढें....




Zimmedaari

एक बार जरुर पढें...


 उठकर पानी तक ना पीने वाले...!
आज अपने कपड़े खुद धो लेते हैं

वह जो कल तक घर के लाडले थे आज अकेले में रोते हैं !
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी पराए होते हैं



Uthakar paani tak na peene vaale ...! aaj apane kapde khud dho lete hain

Wah jo kal tak ghar ke laadle the aaj akele mein rote hain sirf betiyaan hi nahi bete bhi paraaye hote hain 




पापा के डांटने पर अम्मी को शिकायत लगाने वाले अब जमाने के नखरे सहते हैं

खाने में सौ नखरे करने वाले अब कुछ भी खा लेते हैं
अम्मी के बाजू पर सर रखकर सोने वाले अब बगैर तकिया के ही सो लेते हैं

बहन को छोटी-छोटी बात पर तंग करने वाले अब बहन को याद करके रोते हैं

सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी पराए होते हैं !




papa ke dantne par ammi ko shikaayat lagaane vaale ab jamane ke nakhare sahte hain

khaane mein saw nakhre karne vaale ab kuchh bhi kha lete hain

ammi ke bazu par sar rakhkar sone vaale ab bagair takiya ke hi so lete hain!

bahan ko chhoti-chhoti baat par tang karne vaale ab bahan ko yaad karke rote hain

sirf betiyaan hi nahi bete bhi paraaye hote hain




यह उन लड़को/बेटों के लिए जो घर की जिम्मेदारियों की वजह से घर से दूर रहते हैं और वह मजबूत बनते रहते हैं जमाने के सामने !
अल्लाह उनकी कमाई में बरकत अता फरमाए... (आमीन )


yah un ladkon/beton ke liye jo ghar ki Jimmedaariyon ki wajah se ghar se door rahte hain aur wah majaboot bante rahte hain jamaane ke saamane...!

Allah unke kamayee mein barakat ata farmaye.... (Aameen)

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां