Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

रानी लक्ष्मीबाई - एक महान क्रांतिकारी वीरांगना

Rani lakshmibai- ek mahaan kraantikaari Veeraangana


सन् 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के विरुद्ध अग्रिम भूमिका निभाने वाली महान क्रांतिकारी वीरांगना, जिनके स्मरण मात्र से साहस, बलिदान व मातृभूमि के प्रति प्रेम का भाव प्रबल होता हो ऐसी वीरों से वीर रानी लक्ष्मीबाई जी की जयंती पर उन्हें शत्-शत् नमन 

✒ #तनवीर


1857 ke pratham svatantrata sangraam mein angrejon ke viruddh agrim bhoomika nibhaane vaali mahaan Kraantikaari Veeraangana, jinke smaran matra se saahas, balidaan va Maatrbhoomi ke prati prem ka bhaav prabal hota ho aise veeron se veer Rani lakshmibai ki jayanti par unhen shat-shat naman



लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था। उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका था लेकिन प्यार से उन्हें मनु कहा जाता था। उनकी माँ का नाम भागीरथीबाई और पिता का नाम मोरोपंत तांबे था। मोरोपंत एक मराठी थे और मराठा बाजीराव की सेवा में थे। माता भागीरथीबाई एक सुसंस्कृत, बुद्धिमान और धर्मनिष्ठ स्वभाव की थी तब उनकी माँ की मृत्यु हो गयी। क्योंकि घर में मनु की देखभाल के लिये कोई नहीं था इसलिए पिता मनु को अपने साथ पेशवा बाजीराव द्वितीय के दरबार में ले जाने लगे। जहाँ चंचल और सुन्दर मनु को सब लोग उसे प्यार से "छबीली" कहकर बुलाने लगे। मनु ने बचपन में शास्त्रों की शिक्षा के साथ शस्त्र की शिक्षा भी ली। सन् 1842 में उनका विवाह झाँसी के मराठा शासित राजा गंगाधर राव नेवालकर के साथ हुआ और वे झाँसी की रानी बनीं। विवाह के बाद उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सन् 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक पुत्र को जन्म दिया। परन्तु चार महीने की उम्र में ही उसकी मृत्यु हो गयी। सन् 1853 में राजा गंगाधर राव का स्वास्थ्य बहुत अधिक बिगड़ जाने पर उन्हें दत्तक पुत्र लेने की सलाह दी गयी। पुत्र गोद लेने के बाद 21 नवंबर 1853 को राजा गंगाधर राव की मृत्यु हो गयी। दत्तक पुत्र का नाम दामोदर राव रखा गया।

ब्रितानी राज ने अपनी राज्य हड़प नीति के तहत बालक दामोदर राव के ख़िलाफ़ अदालत में मुक़दमा दायर कर दिया। हालांकि मुक़दमे में बहुत बहस हुई, परन्तु इसे ख़ारिज कर दिया गया। ब्रितानी अधिकारियों ने राज्य का ख़ज़ाना ज़ब्त कर लिया और उनके पति के कर्ज़ को रानी के सालाना ख़र्च में से काटने का फ़रमान जारी कर दिया। इसके परिणाम स्वरूप रानी को झाँसी का क़िला छोड़कर झाँसी के रानीमहल में जाना पड़ा। पर रानी लक्ष्मीबाई ने हिम्मत नहीं हारी और उन्होनें हर हाल में झाँसी राज्य की रक्षा करने का निश्चय किया। 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां