Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

मानव



Manav


समंदर सूख गया है

पर्वतों का कोई वजूद नहीं रहा 

चाँद की अहमियत 

अब गिरवी है 


Samandar sukh gaya hai

Parvaton ka koi wazood nahi raha 

Chand kee ahamiyat

ab giravee hai



वो दुनिया अब वीरान है

जहाँ समंदर मिलकर समूह में गाते थे

पर्वतों के छांव में विराम करते थे

जहाँ पूर्णिमा के दिन 

चाँद अपना हुनर दिखलाता था 


Wo duniya ab veeraan hai

jahaan samandar milkar samooh mein gaate the

parvaton ke chhaanv mein viraam karte the

Jahaa poornima ke din

chaand apana hunar ​​dikhalaata tha



घास असमय बुढ़ा हो चला है 

लाठियों के सहारे 

थोड़ा-बहुत चल लेता है 

आदमी अगर हँसना छोड़ दे 

तो वो इसी घास के जैसा दिखेगा 


ghaas asamay budha ho chala hai

laathiyon ke sahaare

thoda-bahut chal leta hai

Aadmi agar hasna chhod de

to vo isee ghaas ke jaisa dikhega



अक्सर जब मैं नींद की यात्रा पर होता हूँ 

हर रोज़ ऐसा ही कुछ नज़ारा होता है 

जहाँ मानव नहीं दिखते 

ना ही मैं दिखता हूँ 


aksar jab mai neend ki yaatra par hota hoon

har roz aisa hi kuchh nazaara hota hai

jahaan manav nahi dikhte

na hi mai dekhta hoon



मेरे प्रतिबिंब सा कुछ है 

जो खोजता है 

उन समंदरों को 

उस चांद को 

उस घास को  

जिनके साथ बैठ 

उनके दुखों को जान सके 


mera pratibimb sa kuchh hai

jo khojta hai

us samandaron ko

us chaand ko 

us ghaas ko

Jinke sath baithe 

unke dukhon ko jaan sake


वो छाया सुनना चाहता है 

समंदर से गीत 

देखना चाहता है चांद का हुनर 

सुनना चाहता है 

बूढ़े हो चुके घास से किस्से 


Wo chhaaya sunana chaahta hai

samandar se geet

dekhna chaahata hai chaand ka hunar

sunana chaahata hai

boodhe ho chuke ghaas se Kisse



सहसा छाया के सामने 

एक विशालकाय शरीर आ खड़ा होता है 

और कहता है उससे 

तुम्हारे अंदर की जिजीविषा ने

मुझे मजबूर कर दिया आने को 

तुम्हारी इच्छाओं का सम्मान करता हूँ 

अगर तुम्हें देखना है 

वो दुनिया 


sahasa chhaaya ke saamne

ek vishaalakaay shareer aa khada hota hai

aur kahta hai usse

Tumhare andar ki jijeevisha ne

mujhe majaboor kar diya aaane ko

Tumhari ichchhaon ka sammaan karta hoon

agar tumhen dekhana hai

wo duniya



तो जाओ ढूंढ लाओ कहीं से मानव 

समंदर खुद दौड़ा चला आएगा

पर्वतों की दीवारें खुद खड़ी हो जाएंगी 

और चांद की रोशनी में 

घास तुम्हें

to jao dhund lao kaheen se maanav samandar khud dauda chala aayega parvaton ki deevaaren khud khadee ho jaayengi aur chaand ki raushni mein
ghaas tumhe

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां